क़ानून Qanoon Lyrics in Hindi – Satinder Sartaaj | Latest Hindi Song 2021

Qanoon | Satinder Sartaaj | New Hindi Song 2021 | Beat Minister | Saga Music

क़ानून Qanoon Lyrics – Satinder Sartaaj in Hindi & English both Languages. Latest Hindi Song 2021 Lyrics On Your Favourite Lyrics Website – Song Lyrics King .

www.songlyricsking.com

Qanoon Lyrics written  by Satinder Sartaaj, Music   Given by Beat Minister and Singer  is Satinder Sartaaj. New Hindi Song Produced By Sumeet Singh. Enjoy the Song and Subscribe to our Newsletter to get Latest Song Lyrics and Offers Notification.

Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se
Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Bahut se aise waakyat jo
Jo pehli baar hi hote hain
Bahut se aise haadsaat jo
Jo pehli baar hi hote hain

Bahut se aise waakyat jo
Jo pehli baar hi hote hain
Bahut se aise haadsaat jo
Jo pehli baar hi hote hain

Unmein galat sahi ab kaise
Saabit kare hawalo se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Khel zindagi ke na
Jeete gaye kabhi chalaki se
Na hi jyada kam diliyon se
Aur na hi bebaaki se

Khel zindagi ke na
Jeete gaye kabhi chalaki se
Na hi jyada kam diliyon se
Aur na hi bebaaki se

Yeh baazi paichida hai
Shayad satranz ki chalo se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Yun to chahe khoob risale chapo
Aur mazmoon likho
Halla karke akhbaron se
Chahe phir qanoon likho

Yun to chahe khoob risale chapo
Aur mazmoon likho
Halla karke akhbaron se
Chahe phir qanoon likho

Hal to aakhir niklenge
Bunyadi asal sawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Waise to agar soche to
Sab kagaz ke farman hi hain
Kuwwat hai mehdudh kyonki
Munsif bhi insaan hi hai

Waise to agar soche to
Sab kagaz ke farman hi hain
Kuwwat hai mehdudh kyonki
Munsif bhi insaan hi hai

Khoon tapkata dekha hai
Insaaf ke butt ki gaalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Palak jhapakte duniya badle
Aisa hua na hoga bhi
Zimmedaar barabar ke hai
Sadar bhi aur daroga bhi

Palak jhapakte duniya badle
Aisa hua na hoga bhi
Zimmedaar barabar ke hai
Sadar bhi aur daroga bhi

Zara zara se farak padenge
Inn sartaaj khayalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

Ab tak mudde bigade hi hai
Aafat aur bawalon se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se
Meri ek guzarish hai
Qanoon banane walo se

मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से
अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफ़त और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

बहुत से ऐसे वाक्यट जो
जो पहली बार ही होते हैं
बहुत से ऐसे हादसात जो
जो पहली बार ही होते हैं

बहुत से ऐसे वाक्यट जो
जो पहली बार ही होते हैं
बहुत से ऐसे हादसात जो
जो पहली बार ही होते हैं

उनमें ग़लत सही अब कैसे
साबित करे हवलो से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफ़त और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

खेल ज़िंदगी के ना
जीते गये कभी चालाकी से
ना ही ज़्यादा कम डीलियों से
और ना ही बेबाकी से

खेल ज़िंदगी के ना
जीते गये कभी चालाकी से
ना ही ज़्यादा कम डीलियों से
और ना ही बेबाकी से

यह बाज़ी पैचिड़ा है
शायद सत्रांज़ की चलो से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफ़त और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

यूँ तो चाहे खूब रिसाले छपो
और मज़मून लिखो
हल्ला करके अख़बारों से
चाहे फिर क़ानून लिखो

यूँ तो चाहे खूब रिसाले छपो
और मज़मून लिखो
हल्ला करके अख़बारों से
चाहे फिर क़ानून लिखो

हाल तो आख़िर निकलेंगे
बूंयादि असल सवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफ़त और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

वैसे तो अगर सोचे तो
सब काग़ज़ के फरमान ही हैं
कुव्वत है महदुध क्योंकि
मुनसिफ़ भी इंसान ही है

वैसे तो अगर सोचे तो
सब काग़ज़ के फरमान ही हैं
कुव्वत है महदुध क्योंकि
मुनसिफ़ भी इंसान ही है

खून टपकता देखा है
इंसाफ़ के बट की गालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफ़त और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

पालक झपकते दुनिया बदले
ऐसा हुआ ना होगा भी
ज़िम्मेदार बराबर के है
सदर भी और दारोगा भी

पालक झपकते दुनिया बदले
ऐसा हुआ ना होगा भी
ज़िम्मेदार बराबर के है
सदर भी और दारोगा भी

ज़रा ज़रा से फराक पड़ेंगे
इन्न सरताज ख़यालों से
मेरी एक गुज़ारिश है

ज़रा ज़रा से फराक पड़ेंगे
इन्न सरताज ख़यालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

अब तक मुद्दे बिगड़े ही है
आफ़त और बवालों से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से
मेरी एक गुज़ारिश है
क़ानून बनाने वालो से

Song Details :-

Play / Download Qanoon MP3 Song On :

Join Our Telegram ChannelFacebook Page Twitter Whatsapp Group

Never Miss Latest Songs Lyrics

Sign up to receive an email whenever we post latest hindi song lyrics.




Related post