Maalik Mere Song Lyrics – Salim Merchant

Alhamdulillahi rabbil aalameen, arrahman ir rahim

Saari raat main, karta raha
Teri ibaadatein,
Mehfooz hoon, teri raah mein,
Karna hifaazatein,
Main mureed hoon, khadim tera
Maine ki hai khataa,
Toh ho na khafaa,
Ab de de shifa.

Maalik mere,
Maalik mere,
Tere bande hain hum,
Kar nazr-e-karam,

Maalik mere,
Maalik mere,
Tere bande hain hum,
Kar nazr-e-karam

Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed
Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed

Ab sikha de mujhe, bandagi ka qarina,
Dikha de mujhe, kaaba aur madina,
Maine ki hai khataa,
Toh ho na khafaa,
Ab de de shifa.

Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed
Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed

Bhatka hua, banda tera, kitney kiye hain gunaah,
Ab laut ke, aaya hai woh, phir se tu apna banaa,
Dikhlaa de tu, siratal mustaquim, de de hume panaah,

Sari raat main, ginta raha,
Teri hi ne’matain,
Main mureed hoon, khadim tera
Maine ki hai khataa,
Toh ho na khafaa,
Ab de de shifa.

Maalik mere,
Maalik mere,
Tere bande hain hum,
Kar nazr-e-karam,

Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed
Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed

Ab sikha de mujhe, bandagi ka qarina,
Dikha de mujhe, kaaba aur madina,
Maine ki hai khataa,
Toh ho na khafaa,
Ab de de shifa.

Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed
Allahumma salli ala muhammadin wa aal-e-muhammed.

अल्हम्दु लिल्लाही रब्बिल आलमीन
अर्राहमान ईर्राहिम

सारी रात मैं, करता रहा
तेरी इबादतें,
मेहफ़ूज हूँ, तेरी राह में,
करना हिफ़ाज़तें,
मैं मुरीद हूँ, खादिम तेरा
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा।

मालिक मेरे,
मालिक मेरे,
तेरे बंदे हैं हम,
कर नज़र -ए- करम,

मालिक मेरे,
मालिक मेरे,
तेरे बंदे हैं हम,
कर नज़र -ए- करम

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

अब सीखा दे मुझे, बंदगी का क़रीना,
दिखा दे मुझे, क़ाबा और मदीना,
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा।

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

भटका हुआ, बंदा तेरा, कितने किए हैं गुनाह,
अब लौट के, आया है वो, फिर से तू अपना बना,
दिखला दे तू, सिरातल मुस्तक़ीम, दे दे हमे पनाह

सारी रात मैं, गिनता रहा,
तेरी ही नेमतें,
मैं मुरीद हूँ, खादिम तेरा
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा।

मालिक मेरे,
मालिक मेरे,
तेरे बंदे हैं हम,
कर नज़र -ए- करम

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

अब सीखा दे मुझे, बंदगी का क़रीना,
दिखा दे मुझे, क़ाबा और मदीना,
मैंने की है ख़ता,
तो हो ना खफ़ा,
अब दे दे शिफ़ा

अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद
अल्लाहुम्मा सल्ली अला मुहम्मदीन
वा आल -ए- मुहम्मेद

Table of Contents

Song Details :-

  • Song : Maalik Mere Song
  • Singer : Salim Merchant
  • Lyrics : Kamal Haji
  • Music Producer : Salim Merchant
  • Music Label : Salim Sulaiman
Join Our Telegram ChannelFacebook Page Twitter Whatsapp Group

Never Miss Latest Songs Lyrics

Sign up to receive an email whenever we post latest hindi song lyrics.




Related post